Tuesday, 17 June 2014

वही दोपहरी गांव की

कुछ मेरा मन मतवाला था
ऊपर से साथ तुम्हारा था
तुम झाड़ी में छुप जाती थीं
मैं दूर-दूर तक जाता था
कहीं पारिजात की खुशबू थी
कहीं लौकिक गंध तुम्हारी थी
कैसे भूलूं उस बचपन को
कैसे छवि भूलूं गांव की
याद आ रही है हमको अब
वही दोपहरी गांव की

कहीं  गूलर लाल टपकते थे
कहीं महुआ झर-झर झरते थे
कहीं खुली धूप तड़पाती थी
कहीं ठंठी पीपल छांव थी
याद आ रही है हमको अब
वही दोपहरी गांव की

जब छोटे-छोट थैलों में हम
कच्चे आम बीनते थे
एक आम जब गिरता था
हम हिरन चौकड़ी भरते थे
कैसे भूलूं बीते लम्हे 
कैसे भूलूं रितु  आम की
याद आ रही है हमको अब
वही दोपहरी गांव की

3 comments:

  1. बीते दिनों की यादें आज भी खुशनुमा एहसास दे जाती हैं और हो रहे बदलाव को देख कर कभी कभी दर्द भी देती हैं।

    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने यशवंत जी।।।

      Delete