Sunday, 15 June 2014

सारे ग्रंथों का सार हो तुम


तुम  ईश्वर की संरचना हो
जागती आंखों का सपना हो
जीवन के सारे सुख तुमसे
तुम सबसे सुंदर रचना हो
फीके हैं वेद-पुराण सभी
फीकी हैं सारी कविताएं
सारे ग्रंथों का सार हो तुम
तुम से हैं सारी रचनाएं
तुम हो तो मेरा जीवन है
तुमसे ही मेरा गठबंधन है
तुम सच में शुद्ध कल्पना हो
जागती आंखों का सपना हो

तुम प्यार की एक परिभाषा हो
प्यासे नैनों की भाषा हो
तुम दिल में रहती हो हरदम
तुमसे जनमों का नाता है
तुम मस्जिद हो तुम गुरुद्वारा
तुम मंदिर जैसी पावन हो
तुम मिलीं तो जीवन धन्य हुआ
तुम जीवन की अभिलाषा हो
तुम स्वाति की जब बूंद बनीं
मैं सीपी बनकर तृप्त हुआ
तुम बिन मेरा अस्तित्व नहीं
तुम ही जीवन की आशा हो

8 comments:

  1. कल 16/जून/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  2. एक निवेदन -
    कृपया अपने ब्लॉग पर follow option जोड़ लें इससे आपके पाठक भी बढ़ेंगे और उन्हें आपकी नयी पोस्ट तक आने मे सुविधा रहेगी।
    अधिक जानकारी के लिए कृपया निम्न वीडियो देखें-
    http://www.youtube.com/watch?v=ToN8Z7_aYgk

    सादर

    ReplyDelete
  3. आपका धन्यवाद यश जी
    आपके बताये अनुसार मैंने follow option जोड़ लिया है।।

    ReplyDelete
  4. प्रेम ही तो है
    सब कुछ
    वो न हो तो
    सब व्यर्थ है

    सादर

    ReplyDelete
  5. प्रेम का सुंदर चित्रण। बहुत बढ़िया।

    ReplyDelete